Religion & Faith: गणेश चतुर्थी पर बनेंगे कई शुभ संयोग, जानिए

Religion & Faith: गणेश चतुर्थी पर बनेंगे कई शुभ संयोग, जानिए

Religion & Faith: Ganesh chaturthi 2019: इसबार गणेश चतुर्थी पर लंबे समय बाद कई शुभ संयोग बनेंगे। ग्रह-नक्षत्रों की शुभ स्थिति से शुक्ल और रवियोग बनेगा, और सूर्य में चतुर्ग्रही योग भी बन रहा है। यानि सिंह राशि में सूर्य, मंगल, बुध और शुक्र एक साथ विद्यमान रहेंगे। ग्रहों और सितारों की इस शुभ स्थिति के कारण इस त्योहार का महत्व और शुभता और अधिक बढ़ जाएगी। ग्रह-नक्षत्रों के इस शुभ संयोग में गणेश प्रतिमा की स्थापना करने से सुख-समृद्धि और शांति मिलेगी। गणपति की स्थापना गणेश चतुर्थी के दिन मध्याह्न में की जाती है क्योंकि इसके पीछे ये मान्यता है कि गणपति का जन्म मध्याह्न काल में हुआ था साथ ही इस दिन चंद्रमा देखना भी वर्जित है।

आज से गणेश चतुर्थी के साथ ही दस दिवसीय गणेशोत्सव शुरू हो जाएगा। हिंदू पंचांग के अनुसार हर साल भाद्रपद के शुक्लपक्ष की चतुर्थी तिथि को गणेश चतुर्थी का त्योहार मनाया जाता है। इसी तिथि पर भगवान गणेश का जन्म हुआ था। गणेश चतुर्थी पर बुद्धि, समृद्धि और सौभाग्य के देवता भगवान गणेश की विधिवत पूजा-अर्चना की जाती है, लेकिन, लंबे समय बाद इस बार गणेश चतुर्थी पर दो शुभ योग और ग्रहों का शुभ संयोग बन रहा है। जिसकी वजह से गणेश चतुर्थी का महत्व बढ़ गया है। 2 सितंबर दिन सोमवार की शुरुआत हस्त नक्षत्र में होगी और गणेश प्रतिमाओं की स्थापना चित्रा नक्षत्र में की जाएगी। मंगल के इस नक्षत्र में चंद्रमा होने से शुभ फल की प्राप्ति होती है। चित्रा नक्षत्र और चतुर्थी तिथि का संयोग 2 सितंबर को सुबह लगभग 8 बजे से शुरू होकर पूरे दिन रहने वाला है।

गणेश चतुर्थी (भाद्रपद शुक्ल पक्ष के चतुर्थी) 2 सितंबर 2019 दिन सोमवार
गणेश चतुर्थी तिथि आरंभ- 04:56, चतुर्थी तिथि समाप्त- 01:53 (3 सितंबर 2019)

गणेश पूजा के लिए अभिजित मुहुर्त –
2
सितंबर 11:05 से 13:36 दोपहर तक प्रारंभ करना चाहिए ।

Leave a Reply

Close Menu
error: Content is protected !!