Religion & Faith: क्या आप देवी के नवार्ण मंत्र की शक्ति के रहस्यों से वाक़िफ़ हैं, यदि नहीं तो अब जान लीजिए !

Religion & Faith: क्या आप देवी के नवार्ण मंत्र की शक्ति के रहस्यों से वाक़िफ़ हैं, यदि नहीं तो अब जान लीजिए !

Religion & Faith: दुर्गा मां की अपार शक्ति और महिमा के बारे में कौन नहीं जानता ? खासतौर पर नवरात्रि में देवी दुर्गा की उपासना से मनवांछित फल तो प्राप्त होते ही हैं लेकिन साथ ही नवग्रहों की शांति के लिए भी सबसे उत्तम दिन माने जाते हैं। ये माना जाता है कि इन नौं दिनों की गई आराधना से नवग्रहों की पीड़ा से बचा जा सकता है। साधक देवी की उपासना के लिए विभिन्न मंत्रों का जाप करते हैं लेकिन देवी का नवार्ण मंत्र विशेषरूप से नवग्रहों के दुष्परिणाम से बचाता है।

चलिए पहले जान लेते हैं नवार्ण मंत्र है क्या ?

नवार्ण मंत्र का अर्थ है नौ वर्ण वाला मंत्र। अतः नौ अक्षरों वाले नवार्ण मंत्र के एक-एक अक्षर का संबंध दुर्गा मां की एक-एक शक्ति से है व उस एक-एक शक्ति का संबंध एक-एक ग्रह से है। ये शक्तियां हैं- शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कुष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायिनी, कालरात्रि, महागौरी एवं सिद्धिदात्री। इन नौ शक्तियों की उपासना नवरात्रि के नौ दिनों तक की जाती है। इसलिए ही ये माना जाता है कि नवरात्रि में नवार्ण मंत्र की सिद्धि करके ग्रहों को अपने अनुकूल किया जा सकता है।

ये नौ वर्णों वाला मंत्र हैः- ।। ऐं ह्रीं क्लीं चामुंडायै विच्चै ।।

नवार्ण मंत्र की साधना कैसे करें

नवार्ण मंत्र अत्यंत चमत्कारिक एवं उग्र होता है इसलिए इस मंत्र का जाप करने से पहले अपने गुरु की आज्ञा व मार्गदर्शन अवश्य लेना चाहिए। इस मंत्र का जप करने से पहले अपने अंदर काम, क्रोध, लोभ, मोह आदि भावनाओं से दूर रहें। इस मंत्र का जाप करते हुए पवित्रता, सात्विकता एवं अत्यंत सावधानी बरतें एवं ब्रह्मचर्य का पालन करें। इस मंत्र के तीन देवता ब्रह्मा, विष्णु और महेश हैं व इसकी तीन देवियां महाकाली, महालक्ष्मी एवं महासरस्वती हैं। मंत्र साधना से पहले अपनी मनोकामना का संकल्प ले लें व प्रतिदिन निश्चित समय पर पूजा स्थान पर लाल कपड़े पर देवी की प्रतिमा या तस्वीर स्थापित करें व गाय के घी का दीपक जलाएं और पूर्व दिशा की ओर मुख करके देवी के नवार्ण मंत्र का जप करें। इस मंत्र की साधना का जाप 108 दाने की स्फटिक माला पर कम से कम तीन बार करें।

नवार्ण मंत्र का लाभ जानिए

ये माना जाता है कि जो कोई भी दुर्गा मां के नवार्ण मंत्र सी साधना करता है उसके नवग्रहों की समस्त पीड़ाएं शांत हो जाती हैं व धन, संपदा, मान-सम्मान, पद-प्रतिष्ठा की प्राप्ति होती है, आत्मविश्वास बल व साहस बढ़ता है और शत्रुओं का नाश होता है। मां दुर्गा की ये नौ शक्तियां धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष इन चार तरह के पुरुषार्थों की प्रप्ति में भी सहायक होती हैं।

 

( इस आलेख में दी गई जानकारी विभिन्न स्त्रोतों से ली गई है जिसका उद्देश्य मात्र सामान्य जानकारी देना है। )

Leave a Reply

Close Menu
error: Content is protected !!