उर्दू के अज़ीम शायर कैफ़ी आज़मी की शायरी

उर्दू के अज़ीम शायर कैफ़ी आज़मी की शायरी

उर्दू के अज़ीम शायर कैफ़ी आज़मी, जिन्होंने अपनी शायरी व गीतों से अपना एक अलग मुकाम हासिल किया। उन्होंने लोगों के दिलों में उस वक्त दस्तक दी जब शायरी और ग़ज़ल की दुनियां में कुछ जाने-माने ग़ज़लकारों का बोलबाला था। कैफ़ी साहब ने हिन्दी फिल्मों के लिए भी काफी यादग़ार नग़में लिखे जिनमें देश भक्ति का ये गीत उन्हें भी अमर कर गया।

-कर चले हम फिदा जान-ओ-तन साथियों, अब तुम्हारे हवाले वतन साथियो।

ज़िंदगी में उन्हें काफी संघर्षों का सामना करना पड़ा लेकिन फिर भी वो अपनी राह चलते ही गए। उनके कुछ शेयर आपके रूबरू हैं।

 

झुकी-झुकी सी नज़र बे-क़रार है कि नहीं

दबा-दबा सा सही दिल में प्यार है कि नहीं

—–

इतना तो ज़िंदगी में किसी के ख़लल पड़े

हंसने से हो सुकून न रोने से कल पड़े

—–

अब जिस तरफ़ से चाहे गुज़र जाए कारवाँ

वीरानियाँ तो सब मिरे दिल में उतर गईं

—–

बस्ती में अपनी हिन्दू मुसलमां जो बस गए

इंसां की शक्ल देखने को हम तरस गए
—–
बस इक झिजक है यही हाल-ए-दिल सुनाने में

कि तेरा ज़िक्र भी आएगा इस फ़साने में

—–
गर डूबना ही अपना मुक़द्दर है तो सुनो

डूबेंगे हम ज़रूर मगर नाख़ुदा के साथ

—–

इंसां की ख़्वाहिशों की कोई इंतिहा नहीं

दो गज़ ज़मीं भी चाहिए दो गज़ कफ़न के बाद
—–
कोई तो सूद चुकाए कोई तो ज़िम्मा ले

उस इंक़लाब का जो आज तक उधार सा है

—–

जिस तरह हंस रहा हूं मैं पी पी गर्म अश्क

यूं दूसरा हंसे तो कलेजा निकल पड़े

Leave a Reply

Close Menu
error: Content is protected !!