Religion & Faith : क्या अज्ञात दैवीय शक्तियां मदद करती हैं ! कैसे पहचानें ?

Religion & Faith : क्या अज्ञात दैवीय शक्तियां मदद करती हैं ! कैसे पहचानें ?

हमारे आसपास चार तरह के लोग होते हैं…एक वो जो भगवान, आत्मा व भूत-प्रेत में विश्वास करते हैं….दूसरे वो लोग हैं जो इन सबमें विश्वास करते भी हैं और नहीं भी…तीसरे तरह के लोग इन सबमें बिल्कुल भी विशावस नहीं करते और पूरी तरह से नास्तिक होते हैं….चौथे वो हैं जो विश्वास के साथ-साथ अंधविश्वास में भी यकीन करते हैं….भावनाएं और विश्वास सबके अलग-अलग होते हैं लेकिन मेरे नज़रिए में अंधविश्वास गलत है।

अगर पराविज्ञान की बात करें तो ये भी एक अजीब सी दुनियां है जो शायद हमने हमेशा सपनों या हॉरर फिल्मों में ही देखी और महसूस की होगी…असल में ये दुनियां किसने देखी या महसूस की ये मैं नहीं कह सकती..लेकिन ज्योतिष शास्त्र, धार्मिक शास्त्रों व मान्यताओं के अनुसार ऐसा कुछ तो है जो हमें ये सोचने पर मजबूर करता है कि दैवीय शक्तियां, आत्माएं अच्छी और बुरी, भूत, प्रेत या अन्य निगेटिव एनर्जीज़ होती हैं….।  

हमारे शास्त्रों के अनुसार बहुत से ऐसे लोग होते हैं जिन्हें अपने जीवन में समय-समय पर दैवीय सहायता मिलती है, ज्योतिष शास्त्र की दृष्टि से देखा जाए तो किसी भी व्यक्ति की कुण्डली से उसके ऐसे योग देखे जा सकते हैं जिनसे ये पता चलता है कि फलां व्यक्ति की कुण्डली में कौन से अच्छे योग व दोष हैं जैसे देव दोष या पितृ दोष आदि जिनसे जातक के जीवन में होने वाले नुकसान के बारे में अनुमान लगाया जा सकता है व उपायों द्वारा इन दोषों से मुक्ति की जा सकती है और कई ऐसे योग भी होते हैं जिनसे ये भी पता लगाया जा सकता है कि दैवीय सहायता मिलेगी या नहीं ? खैर यह एक अलग विषय है जिस पर हम फिर चर्चा करेंगे लेकिन यदि आपको दैवीय सहायता मिलने के संकेत मिल रहे हैं तो आइए हम बताते है उसके कुछ लक्षण।    

क्या आप एक अच्छे चरित्र वाले इंसान है ?

शास्त्र कहते हैं कि दूसरों के दुख-दर्द को समझने व उनकी मदद करने वाले, बुराई से दूर रहने वाले, नकारात्मक सोच व विचारों से दूर रहने वाले, धर्म व पुण्य कार्यों में लगे रहने वाले और अपने ईष्ट की आराधना करने वाले लोगों पर दैवीक शक्तियां मेहरबान रहती हैं। ऐसे लोग अच्छे चरित्र के मालिक होते हैं। अगर आप ऐसे व्यक्तित्व के मालिक हैं तो आप सही रास्ते चल रहे हैं, दैविक शक्तियां ऐसे व्यक्ति पर मेहरबान होती हैं, जो आपको हर समय देख रही हैं।

आपकी नींद कब खुलती है ?

विद्वानों का मानना है कि यदि आपकी नींद प्रतिदिन अचानक रात्रि 3 से 5 के बीच खुल जाती है तो आप समझ जाएं कि कोई दैविक शक्ति आपको जगने का संदेश दे रही है और आपके माध्यम से कुछ करवाना चाहती है या आपको एक अच्छी आत्मा समझ कर ये संकेत दे रही है कि उठ जाओ और ईश्वर का स्मरण करो ये जीवन सोने के लिए नहीं मिला है आपको अभी बहुत कुछ करना है, सोने में समय मत व्यर्थ करो। सत्वगुण प्रधान लोग अपने आप ही इस वेला में उठ जाते हैं। दैविक शक्तियों के जाग्रित होने का भी यही समय होता है इसीलिए इस समय को अमृततुल्य कहा जाता है।

क्या किसी देवता या मंदिर के दर्शन होते हैं ?

यदि सपने में आपको बार-बार किसी देवता या मंदिर या धार्मिक स्थान के दर्शन होते हों या आप सपने में किसी दिव्य आत्मा या देवी-देवता से बातें करते हैं या फिर आप अपने आप को आसमान में उड़ते दिखाई देते हैं, तो आप समझ जाएं कि आप पर दैवीय कृपा है।      क्या आपको   पूर्वाभास होते हैं ?यदि आपको होने वाली किसी घटना के बारे में पहले से ही आभास हो जाता है तो आप समझ जाएं कि दैविय शक्तियों की आप पर कृपा है।

आपके चारों ओर किसी खुशबू का आना !

यदि आपको कभी-कभी अपने आसपास एक अद्भुत खुशबू का अहसास होता है तो आप समझ जाएं कि आलौकिक शक्तियां आपके आस-पास हैं।

ठंडी हवा के झोंके का महसूस होना और शरीर में सिरहन आना          

पूजा करते हुए अचानक से ठंडी हवा का महसूस होना या अपने चारों ओर एक प्रकाश पुंज का महसूस होना और शरीर में सिरहन महसूस होना जो आपको पहले कभी महसूस न हुआ हो तो समझ जाएं कि दैवीय शक्ति आपके आसपास है। ऐसा ज्यादा पूजा-पाठ करने वाले या ध्यान लगाने वाले व्यक्ति के साथ होता है।          

अचानक कोई आपको पुकारे और कोई न होआप गहरी नींद में सो रहे हैं और अचानक से आपको ऐसा लगे कि किसी ने आपका नाम पुकारा है, अचानक आप नींद से जाग जाते हैं और देखते हैं कि आपके आसपास कोई नहीं है लेकिन आवाज़ आपने स्पष्टतौर पर सुनी थी, यदि ऐसा आपके साथ कई बार होता है तो आप समझ जाएं कि कोई आलौकिक शक्ति आपको बुला रही है, लेकिन आप उसके बारे में नहीं जानते कि वो अच्छी है या बुरी..ऐसे में आपको चाहिए कि आप हनुमानजी का ध्यान करें।          

परिवार व रिश्तेदारों से कैसे संबंध हैं आपके ?

यदि आपके परिवार के लोग यानि आपकी पत्नी, बच्चे व रिश्तेदार आपकी आज्ञा का पालन करते हों, और आपसे प्यार करते हों व आपको सम्मान देते हों तो आप समझ जाए कि दैवीय शक्तियां आपसे प्रसन्न हैं।       

आपके सभी काम आसानी से बनते चले जाएं      

जीवन के किसी मोड़ पर अचानक से आपके सभी काम बनने लग जाएं, और जो आप चाहें आपको आसानी से मिल जाए तो आप समझें कि दैवीय शक्तियां आपकी मदद कर रही हैं।

संपादक- मनुस्मृति लखोत्रा

Note- (इस आलेख में दी गई जानकारी विभिन्न स्त्रोतों से ली गई है जिसका उद्देश्य केवल सामान्य जानकारी देना है)

Leave a Reply

Close Menu
error: Content is protected !!