अंदर का ज़हर चूम लिया धुल के आ गए, कितने शरीफ़ लोग थे सब खुल के आ गएः डॉ. राहत इंदौरी

ग़ज़ल तब और भी खूबसूरत हो जाती है जब उसे कहने वाला इशारों ही इशारों में ग़ज़ल की गहराई को आप तक पहुंचा दे। यहां डॉ. राहत इंदौरी का नाम…

Continue Reading

क्योंकि सपना है अभी भी : धर्मवीर भारती

क्योंकि सपना है अभी भी इसलिए तलवार टूटी अश्व घायल कोहरे डूबी दिशाएं कौन दुश्मन, कौन अपने लोग, सब कुछ धुंध धूमिल किन्तु कायम युद्ध का संकल्प है अपना अभी…

Continue Reading

Poetry Breakfast: “वो शायर था, चुप सा रहता था”: गुलज़ार

उनकी नज़मों में समुंद्र सी गहराई है, जिसमें गोता खाए बिनां उनके अर्थ जानना नामुमकिन है। भाव भी इतने गहरे कि समझते जाओ और अर्थ रूपी बेश्कीमती हीरे ज्वाहरात समेटते…

Continue Reading

हार नहीं मानूंगा, रार नहीं ठानूंगाः अटल बिहारी वाजपेयी

देश के पूर्व प्रधानमंत्री स्व. श्री अटल बिहारी वाजपेयी, एक लोकप्रिय जननायक व साहित्य जगत के उमदा कवि व लेखक। जिनकी कविताएं संसद से लेकर राजनीतिक गलियारों में आज भी…

Continue Reading

उर्दू के अज़ीम शायर कैफ़ी आज़मी की शायरी

उर्दू के अज़ीम शायर कैफ़ी आज़मी, जिन्होंने अपनी शायरी व गीतों से अपना एक अलग मुकाम हासिल किया। उन्होंने लोगों के दिलों में उस वक्त दस्तक दी जब शायरी और…

Continue Reading

“मैं पल दो पल का शायर हूं” : साहिर

कविता, गज़ल, शायरी एक ऐसा ज़रिया है जिसके माध्यम से किसी की भी रूह से रिश्ता जोड़ा जा सकता है। यहां शायरी के बेताज बादशाह साहिर का नाम लिया जाए…

Continue Reading

वो अदभुत पर्वत

बर्फीली चादर ओढ़े अटल खड़ा है, वो अदभुत पर्वत ! विराट शिवलिंग शोभाएमान है, जिसके शिखर पर । उसी से प्रतिध्वनित होती ॐ की ध्वनि, अपनी ओर सम्मोहित करती, सारी…

Continue Reading
  • 1
  • 2
Close Menu
error: Content is protected !!