यादगार लम्हें: वो गीत जिसने ज़िंदगी से रूबरू कराया, आज भी करोड़ों दिलों में धड़कता हैं, “इक प्यार का नग़मा है”…

यादगार लम्हें: कई बार कोई बेहद खूबसूरत सा नग़मा बहुत ही कम शब्दों में ज़िंदगी से रूबरू करा जाता है। हमारी हिंदी फिल्म इंडस्ट्री ने हमें ऐसे कई यादग़ार गीत…

Continue Reading

यादग़ार लम्हेंः “मेरे महबूब क़यामत होगी, आज रुसवा तेरी गलियों में मोहब्बत होगी”: आनंद बख्शी

आज हम हिंदी सिनेमा के सफरनामे में एक ऐसे फ़नकार के बारे में कुछ बातें आपके साथ सांझा करेंगे जिन्होंने शब्दों को कुछ ऐसे तराशा जो गीत बनकर सबके दिलों…

Continue Reading

यादग़ार लम्हेः वो दौर कुछ और ही था जब फिल्मी गीतों में सावन झूमता था और बरखा की फुहार कुछ भीगी यादें ताज़ा कर जाती थी…!

सावन की छटा बिखेरते... आसमान में इतराते इंद्रधनुषी रंग, बारिश की झम-झम, और ठंडी हवा के झोंके जब फिल्मी गीतों की रंगत को संवारने लगे तो कुछ इस क़दर सावन…

Continue Reading

यादग़ार लम्हेंः उनकी मखमली और भारीपन लिए हुए आवाज़ में प्यार के दर्द को बयां करने का एक ऐसा तिलिस्म था जिसने भी सुना वो ठगा रह गया !

File: चिट्ठी न कोई संदेस, न जाने वो कौन सा देस, कहां तुम चले गए... जी हां ग़ज़ल की दुनियां के वो फनक़ार जिनकी आवाज़ का जादू ऐसा चला कि…

Continue Reading

यादगार लम्हेंः 60 के दशक की हिट-गर्ल आशा पारेख के शादी न करने का कारण क्या था ? आखिर वो किसे चाहती थीं ! आइए जानते हैं…

60 के दशक में हिंदी सिनेमा में एक वो भी दौर था जब हिट गर्ल यानिकी आशा पारेख की फिल्में सूपर-डूपर हिट हुआ करती थी, उनकी इतनी कामयाबी, नाम और…

Continue Reading

यादगार लम्हेंः जहां मनुष्य की अंतरात्मा भी उस पीयूष-स्नान से सिक्त होकर चेतना के एक ऊर्ध्व-लोक में पहुँच जाती है !

कुंभ मेला : भारतीय संस्कृति एवं अस्मिता का प्रतीक  भारत को देखना है तो कुम्भ मेला देखिये !  गंगा -यमुना -सरस्वती त्रिवेणी संगम पर प्रयाग में जब अमृत का आधान होता है…

Continue Reading

सिनेमा घरों से लेकर मंदिरों तक गूंजे भक्ति रस में भीगे भजन ! आपके लिए भी सुनहरी पन्नों से तराशे हैं कुछ बेशकीमती गीत, जानिए

हिंदी सिनेमा के स्वर्णिम इतिहास के शुरुआती पन्नों से लेकर अब तक का सफर अगर खंगाला जाए तो भक्ति गीतों की फुहारों से आपका रोम-रोम भीग जाएगा। जिनकी गूंज बड़े…

Continue Reading

“ऐ मेरे वतन के लोगो, ज़रा आंख में भर लो पानी”… गणतंत्र दिवस के अवसर पर देश के शहीदों को शत् शत् नमन

ऐ मेरे वतन के लोगो, ज़रा आंख में भर लो पानी....ये गीत आज भी उतना ही गहरा, उमदा और देश भक्ति की भावना से भीगा हुआ है जितना पहली बार…

Continue Reading

यादगार लम्हें: स्वामी विवेकानंद का वो भाषण जिसमें उन्होंने भारत के गौरव, अतुल्य विरासत व ज्ञान की छवि पेश की, जानिए

लेख सेक्शनः स्वामी विवेकानंद, इस नाम और शख्सियत से कौन वाकिफ नहीं? आज का ये दिन हमारे लिए बेहद विशेष हैं। आज ही के दिन 12 जनवरी, 1863 को कोलकाता…

Continue Reading

यादगार लम्हें : जुहू बीच पर टहलते जिनके क़दम हर सुबह एक नया गीत तराश लाते थे, वो थे शैलेन्द्र…

एक दिन एक शख्स बारिश में भीगते-भागते आरके स्टूडियो में राजकपूर साहब से मिलने पहुंचा और कहने लगा कि वे उनके लिए गीत लिखने के लिए तैयार हैं। राज कपूर…

Continue Reading
  • 1
  • 2
Close Menu
error: Content is protected !!